Ishwar In Hindi | ईश्वर पर महान विचारकों के विचार | ईश्वर के प्रति हमारा

ईश्वर का अर्थ व परिभाषा (Meaning and definitions of Ishwar) ईश्वर क्या है? Ishwar Kya कहाँ है? ईश्वर वर्ड (Sentence On Ishwar) से रिलेटेड महान विचार को ने क्या कहा? हम इस आर्टिकल के अंतर्गत Ishwar Quotes In Hindi के माध्यम से जानेंगे, ईश्वर परमात्मा क्या (Parmatma Kaun) है? God के प्रति हमारा नजरिया क्या है? क्या ईश्वर से माँगना ही धर्म है? हम Parmatam को क्या दे सकते हैं? ईश्वर हमसे क्या चाहता है? कैसे पा सकते हैं हम ईश्वर को? आदि जानकारी इस आर्टिकल के माध्यम से पड़ेंगे।

Ishwar In Hindi
Ishwar In Hindi

Ishwar In Hindi | ईश्वर क्या Aur कौन है?

एक धार्मिक भावना, सिद्धा और सृष्टि की रचना की बात आती है तो उस Ishwar को याद किया जाता है। जिसने यह सब कुछ बनाया है। परमात्मा (Parmatma) उसी को परमेश्वर (ParmeIshwar) ईश्वर (Ishwar) खुदा (Khuda) गॉड (God) अल्लाह (Allah) भगवान (Bhagvaan) आदि तमाम शब्दों (Sentence) से पुकारते हैं। वास्तव में ईश्वर (Ishwar) से बड़ा परमेश्वर, आत्मा से वड़ा परमात्मा, English वर्ड में इसे God कहते हैं और आम भाषा में भगवान (Bhagvaan) कहते हैं तो Ishwar Words (ईश्वर शब्द) से आप रूबरू हो चुके होंगे। अब जानते हैं महान विचार को ने Ishwar के बारे में अपने क्या विचार दिए चलिए जानते हैं Ishwar Quotes In Hindi के माध्यम से,

Ishwar Quotes In Hindi | ईश्वर पर विचारकों के विचार

1-ईश्वरत्व मानवता के उत्कर्ष के साक्षात्कार का साधन मात्र है। जिसे Ishwar की अनुभूति हो जाती है उसका हृदय दया, करुणा तथा सेवा भावना से सराबोर हो जाता है। -मैथिलीशरण गुप्त (Maithilisharan Gupta)

2-Ishwar (ईश्वर) कोई बाह्य सत्य नहीं है। वह तो स्वयं के ही परिष्कार की अंतिम चेतना अवस्था है। उसे पाने का अर्थ स्वयं वही हो जाने के अतिरिक्त और कुछ नहीं है। -आचार्य रजनीश (Rajneesh)

3-वास्तविक राम (Ram) कोई आदमी नहीं है जो कि कहीं अन्यत्र रहता हो और बुलाने पर आ जाए। चूँकि राम (Ram) कोई और नहीं अपितु निजात्मा है। इसलिए राम नाम (Ram Name) रटना नहीं है अपितु निज को जानना है, चूँकि निज का बोध ही असली राम की उपलब्धि है। -आधुनिक वेदव्यास (Veda Vyasa)

4-साक्षी स्वरूप आत्मा को ज्ञान (Aatma Ko Gyan) की आँखों से अपने मन में ही समझकर देख। चूँकि साक्षी स्वरूप आत्मा का साक्षात्कार (Aatma Darsan) किए बिना संसार का जन्म-मरण रूपी झगड़ा छूट नहीं सकता। -संत कबीर (Kabir)

5-ईश्वर (Ishwar) प्रत्येक व्यक्ति को सच और झूठ में एक को चुनने का अवसर देता है। इमर्सन (Emerson)

Sentence on ishwar in hindi

6-ईश्वर (ishwar) एक वृत है, जिसका केन्द्र तो सर्वत्र है, किन्तु वृत रेखा कहीं नहीं। -संत आगस्टाइन (Augustine)

7-जो पुरुष स्वयं को शरीर, प्राण, इन्द्रिय और मन नहीं मानकर साक्षीस्वरूप में स्थित एकमात्र शिव रूप परमात्मा (Parmatma) ही समझते हैं, उनकी ऐसी निश्चयात्मक बुद्धि ही समाधि कहलाती है। -अन्नपूर्णोपनिषद् (Annapurnopanishad)

8-यदि ईश्वर (God) है तो हमें उसे देखना चाहिए, यदि आत्मा है तो हमें उसकी प्रत्यक्ष अनुभूति कर लेनी चाहिए अन्यथा उन पर विश्वास न करना ही अच्छा है। ढोंगी बनने की अपेक्षा स्पष्ट रूप से नास्तिक बनना अच्छा है। -स्वामी विवेकानन्द (Swami Vivekanand)

9-प्रभु (Bhagvaan) को समर्पित करने योग्य मनुष्य के पास ‘मैं’ के अतिरिक्त और कुछ भी नहीं है। शेष जो भी वह छोड़ता है वह केवल छोड़ने का भ्रम है। क्योंकि वह उसका था ही नहीं। -आचार्य रजनीश (Rajneesh)

10-Ishwar kya hai? (क्या ईश्वर है) Bagvaan ही ईश्वर है-सभी कुछ वही है, लेकिन जो ‘मैं’ से भरे हैं, वे उसे नहीं जान सकते। उसे॥ जानने की पहली शर्त स्वयं को खोना है। -आचार्य रजनीश (Rajneesh)

Ishwar Status In Hindi | भगवान के बारे में Mahapurush

11-जिसकी पीठ पर परमेश्वर (Parmameshwar) का हाथ हो उसके लिए कुछ भी कठिन नहीं। भगवान् (Bagvaan) जो चाहे कर दे उसका हाथ कौन पकड़ सकता है। -सुदर्शन (Sudarshan)

12-भगवान् (Ishwar) को सभी मनुष्यों के साथ एक समान प्रेम है लेकिन अधिकतर लोगों की चेतना का धुंधलापन उन्हें इस दिव्य प्रेम को देखने से रोकता है। -माता पाण्डिचेरी (Mata Pondicherry)

13-अनुकूलता प्रतिकूलता को मत देखो, जिस प्रभु (Parmatma) ने उनको भेजा है, उस प्रभु को देखो और उसी को अपना मानकर प्रसन्न रहो। -स्वामी रामसुख दास (Ramsukh Das)

14-ईश्वर (Ishwar) कण-कण में है, वह सर्वव्यापी है। इस कथन का आश्रय सिर्फ इतना है कि आप Ishwar को हमेशा मौजूद मानें। -स्वामी शिवानन्द (Sivananda)

15-परमात्मा (God) को बाहर मत ढूँढो। परमात्मा (Ishwar) कोई आदमी नहीं है, जो तुम्हें बाहर मिल जाएगा। चित्तवृत्ति निर्विषय होने पर जहाँ होती है और सविषयता से पूर्व जहाँ थी—वही परमात्मा है। -आधुनिक वेदव्यास (Veda Vyasa)

Quotes on ishwar in hindi | ईश्वर पर उद्धरण हिन्दी में

16-मेरे लिए इस बात का महत्त्व नहीं कि Ishwar मेरे पक्ष में है या नहीं। मेरे लिए अधिक महत्त्वपूर्ण बात यह है कि मैं ईश्वर के पक्ष में रहूँ क्योंकि Ishwar हमेशा सही होता है। -अब्राहम लिंकन (Abraham Lincoln)

17-परमात्मा (God) व्यक्ति नहीं है, उसका साक्षात्कार नहीं हो सकता। परमात्मा (Ishwar) शक्ति है लेकिन शक्ति भी पदार्थगत नहीं है, आत्मगत है, इसलिए उसका पहला अनुभव स्वयं में प्रवेश पर ही होता है। -आचार्य रजनीश (Rajneesh)

18-भगवान् (God) निराकार है और साकार भी। फिर वे इन दोनों अवस्थाओं से परे जो हैं, वे भी हैं। केवल वे ही स्वयं जानते हैं कि वे क्या हैं?-रामकृष्ण परमहंस (Ramakrishna Paramhansa)

19-भगवान् (Ishwar) को समर्पण करने का अर्थ है अपनी तंग सीमाओं का त्याग करके अपने आपको उनके द्वारा आक्रान्त होने देना और उनकी लीला का केन्द्र बनने देना। -माता पाण्डिचेरी (Mata Pondicherry)

निष्कर्ष

दिए गए कंटेंट के माध्यम से आपने ईश्वर इन हिन्दी (Ishwar In Hindi) के बारे में महत्त्वपूर्ण महापुरुषों के विचार जाने। ईश्वर क्या है कैसा है? कैसे मिलता है? वह हमारे लिए किस प्रकार से दया करता है। तमाम बातों को जाना। आशा है आपको Ishwar Quotes In Hindi जानकारी जरूर अच्छी लगी होगी।

और अधिक जाने: सच्चा धर्म (Saccha Dharm) क्या है? धर्म का उद्देश्य महान् विचारकों की दृष्टि में

1 thought on “Ishwar In Hindi | ईश्वर पर महान विचारकों के विचार | ईश्वर के प्रति हमारा”

  1. Pingback: Dhairya in Hindi / धैर्य पर सुविचार ।। जीवन में क्या महत्त्व है? - God Gyan

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top