हमारे जीवन में क्षमा का क्या महत्व है? क्षमा पर महापुरुष

क्या क्षमा दान सबसे बड़ा दान है? वास्तव में क्षमा का Life में क्या महत्त्व है? excused का क्या लाभ है? क्षमा कौन कर सकता है, क्षमा करने वाले को क्या प्राप्त होता है? kshama ना करने वालों से क्या हानि होती है, क्षमा किसे करना चाहिए और किसे नहीं करना चाहिए, इन सभी प्रश्नों का शास्त्र सम्मत विश्लेषण किया है। हमारे महापुरुषों ने जिनका क्षमा पर दिए गए संदेश को आपके साथ साझा कर रहे हैं। चलिए शुरू करें,

दोस्तों गॉड ज्ञान में आपका स्वागत है। आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से आपके लिए बहुत ही महत्त्वपूर्ण जीवन की वास्तविकता से जुड़ा हुआ, क्षमा शब्द पर चर्चा करने वाले हैं। जो महापुरुषों ने अपने वक्तव्य दिए, क्षमा से रिलेटेड कि वास्तव में क्षमा का जीवन में क्या महत्त्व है? किसी क्षमा करना चाहिए? किसी नहीं? और क्षमा से क्या लाभ होता है? आदि तमाम बातों को आप पढ़ेंगे, आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें। यह जीवन को एक अच्छा सकारात्मक विचार दे सकता है। चलिए शुरू करें,

क्षमा का महत्त्व
क्षमा का महत्त्व

क्षमा का अर्थ:-क्षमा को तो आप भली-भांति जानते ही होंगे। कि क्षमा का मतलब क्या होता है? अर्थ क्या होता है। यानी किसी ने हमारे साथ ग़लत दुर्व्यवहार किया और उसको हमने माफ़ किया। हम उसको शांति का परिचय देंगे, किसी के किए हुए अपने ऊपर ग़लत द्वारा दुर्व्यवहार को उसे माफ़ कर देना या नहीं छमा होता है।

क्षमा पर महापुरुष का स्टेटस

1 कुरान (Quran) :-में लिखा है जो क्षमा करता है और बीती बातों को भूल जाता है, उसे ईश्वर की ओर से पुरस्कार मिलता है।
2 खलील जिब्रान (Khalil Gibran) :-जो Manushy नारी की Woman को क्षमा नहीं कर सकता, उसे उसके महान गुणों का उपयोग करने का अवसर कभी प्राप्त ना होगा।
3 वेदव्यास (Ved Vyas) :-जिसने पहले कभी तुम्हारा Favour किया हो, उससे यदि कोई भारी अपराध (crime) हो जाए तो भी पहले के उपकार का स्मरण करके उस अपराधी को अपराध (crime) को तुम्हें क्षमा (Pardon) कर देना चाहिए.
4 चार्ल्स बक्सन (Charles buxon) :-दान को सर्वश्रेष्ठ बनाना है तो क्षमा दान करना सीखो।
5 सेठ गोविंददास (Seth Govinddas) :-क्षमा में जो महत्ता है और औदार्य है, वह क्रोध और प्रतिकार में कहाँ? प्रतिहिंसा (reprisal) हिंसा पर ही आघात कर सकती है, उदारता (leniency) पर नहीं।
6 जापानी लोकोक्ति (Japanese proverb) :-जिसे पश्चाताप ना हो उसे क्षमा कर देना पानी पर लकीर खींचने की तरह निरर्थक है।
7 शरतचंद्र (Sharatchandra) :-संसार में ऐसे अपराध कम ही है जिन्हें हम चाहे और क्षमा ना कर सके।
8 तिरुवल्लुवर (Tiruvalluvar) :-जो लोग बुराई का बदला लेते हैं, बुद्धिमान उनका सम्मान नहीं करते, किंतु जो अपने शत्रुओं को क्षमा कर देते हैं, वे स्वर्ग के अधिकारी समझे जाते हैं।
9 वेदव्यास (Ved Vyas) :-ना तो तेज ही सदा श्रेष्ठ है और ना क्षमा ही।

Read the post:- हमको क्या करना चाहिए क्या नहीं करना चाहिए

क्षमा का जीवन में महत्त्व

10 बैरन (Baran) :-क्षमा मनुष्य का सर्वश्रेष्ठ तथा सर्वोच्च गुण है, क्षमा दंड देने के समान है।
11 महाभारत (Mahabharata) :-दुष्टों का बल हिंसा है, राजाओं का बल दंड है और गुणवान का क्षमा है।
12 वेदव्यास (Ved Vyas):- क्षमा धर्म (Forgiveness religion) है, क्षमा यज्ञ (Pardon) है, Pardon veda है और क्षमा शास्त्र है। जिस प्रकार जानता है वह सब कुछ क्षमा करने योग्य हो जाता है।
13 महर्षि वाल्मीकि (Maharishi Valmiki) :-संसार में मानव के लिए क्षमा एक अलंकार है।
14 वेदव्यास (Ved Vyas) :-क्षमा तेजस्वी पुरुषों का तेज है, क्षमा तपस्वियों का ब्रह्मा है, क्षमा सतवादी पुरुषों का सत्य है। क्षमा यज्ञ और क्षमा शम (मनोविग्रह) है।
15 विदुर नीति (Wise policy) :-इस जगत में क्षमा Vasikarn रूप है। भला क्षमा (Pardon) से क्या नहीं सिद्ध होता है? जिसके हाथ में शांति रूपी तलवार हैं, उनका दुष्ट पुरुष क्या कर लेंगे?
16 भागवत (Bhagwat) :-वही साधुता है कि स्वयं समर्थ होने पर क्षमाभाव (Apology) रखे।
17 हजरत अली (Hazrat Ali) :-क्षमा कर देना दुश्मन पर विजय पा लेना है।
18 सेंटल्यूक (Santluke) :-मित्र क्षमा नहीं किए जाते, शत्रु को क्षमा भले ही मिल जाए.
19 वेदव्यास (Ved Vyas) :-क्षमा असक्तो के लिए गुण हैं और समर्थवान के लिए भूषण हैं।

Read:- आप चाहते हैं कि क्षमा को धर्म मिले

क्षमा करने वाले को क्या प्राप्त होता है?

20 गुरु गोविंद सिंह (Guru Govind Singh) :-यदि कोई दुर्लभ मनुष्य तुम्हारा अपमान करें तो उसे क्षमा कर दो, क्योंकि क्षमा करना ही वीरों का काम है, परंतु यदि अपमान करने वाला बलवान (Strong) हो तो उसको अवश्य दंड दो।
21 जयशंकर प्रसाद (Jai Shankar Prasad) :-क्षमा से बढ़कर (More than sorry) और किसी बात में पाप को पुण्य बनाने की शक्ति नहीं है।
22 महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) :-क्षमा दंड से अधिक पुरुषोचित है, क्षमा वीरस्य भूषणम्।
23 वेदव्यास (Ved Vyas) :-अच्छी तरह जांच पड़ताल करने पर यह सिद्ध हो जाए कि अमुक अपराध अनजान में ही हो गया है, तो उसे क्षमा के ही योग्य बताया गया है।
24 अज्ञात (Unknown) :-क्षमा दंड से बड़ा है दंड देना है मानव, किंतु क्षमा प्राप्त होती है देवता से। दंड से उल्लास है पर शांति नहीं। क्षमा में शांति है और आनंद भी।
25 वेदव्यास (Ved Vyas) :-यदि मनुष्य में पृथ्वी के समान क्षमाशील पुरुष ना हो तो मानव में कभी संधि हो ही नहीं सकती है क्योंकि झगड़े की जड़ तो क्रोधी है।
26 जयशंकर प्रसाद (Jai Shankar Prasad) :-क्षमा पर मनुष्य (humans) का अधिकार है वह Animal के पास नहीं मिलती है। प्रतिहिंसा पाशव धर्म है।
27 वेदव्यास (Ved Vyas) :-क्षमाबानो के लिए यह लोक हैं क्षमावानो के लिए ही परलोक है। क्षमाशील पुरुष इस जगत में सम्मान और परलोक में उत्तम गति पाते हैं।

पोस्ट निष्कर्ष:-

दोस्तों अपने ऊपर दिए गए महापुरुषों के वक्तव्य जो क्षमा पर हिन्दी क्यूट पड़ा। आपको ऊपर दिए गए महापुरुषों का स्टेटस ज़रूर अच्छा लगा होगा। यदि आपको यह अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ इसे ज़रूर साझा करें, पोस्ट पढ़ने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद और ज्ञान सम्बंधी जानकारी पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

Read The Post:-

Jeevan mai mata pita

महापुरुषों के द्वारा वाक्यांश किए गए शब्दों का उच्चारण

Spread the love

1 thought on “हमारे जीवन में क्षमा का क्या महत्व है? क्षमा पर महापुरुष”

  1. Pingback: प्रशंसा का अर्थ क्या है? कौन प्रशंसा का पात्र - God Gyan

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top