उपदेश देने का अधिकार किसे है? Updesh in hindi 35 कथन

Updesh in hindi, उपदेश क्या है? उपदेश देने का अधिकार किसे है? उपदेशों को आचरण में लाने से आमजन को क्या लाभ मिलता? उपदेश देना सरल है या ग्रहण करना’ , महा-मनीषियों का कथन है कि उपदेशों से जीवन बदल जाता है और व्यक्ति को नई राह सूहाती है। आइये, देखें उपदेशों के इस सागर को आचरण में लाकर बनें सुखी।

Updesh in hindi

महापुरुषों के उपदेश

1-जिसे हर कोई देने को तैयार रहता है पर लेता कोई नहीं, ऐसी वस्तु क्या है? उपदेश, सलाह। -स्वामी रामतीर्थ (swami ramtirth)
2-जो किसी का उपकार करना नहीं जानता, उसे किसी प्रकार का उपकार पाने का कोई अधिकार नहीं। -लैटिन लोकोक्ति (Latin proverb)
3-जो ईश्वर की आराधना के साथ-साथ पुरुषार्थ करते हैं उनके दुःख और दारिद्रय दूर होते हैं और ऐश्वर्य बढ़ता है। -अज्ञात (unknown)
4-जिन घरों में असम्मानित व दु: खी स्त्रिया शाप देती हैं, वे घर शीघ्र ही नष्ट हो जाते हैं। इसलिए जो मनुष्य समद्धि चाहते हैं, उन्हें आभूषण, वस्त्र, भोजनादि से उनका सत्कार करना उचित है। -मनुस्मृति (Manusmriti)
5-जब कोई मनुष्य किसी दूसरे के दोषों पर उंगली उठाता है, तो उसे ध्यान रखना चाहिए कि शेष तीन उंगलियाँ उसकी ही ओर संकेत कर रही हैं। -अज्ञात (unknown)
6-केवल अपने लिए मांगने वाला भिखारी कहलाता है, किन्तु सबके लिए माँगने वाला साधु कहलाता है। -महादेवी वर्मा (mahadevi Verma)
7-किसी चीज को दबाना उसे शक्ति देने का दूसरा नाम है। -ओशो (Osho)
8-काबू किया जा सकता है क्रोध को प्रेम से, बुराई को भलाई से, लोभ को उदारता से और असत्य को सत्य से। -धम्मपद (dhammapada)
9-कायरों और संशयशील व्यक्तियों के लिए प्रत्येक वस्तु असम्भव है, क्योंकि उन्हें ऐसा ही प्रतीत होता है। -बाल्टर स्काट (Balter Scott)
10-जिस घर में कोई नहीं रहता उसमें चमगादड़ बसेरा लेते हैं। -प्रेमचन्द (Premchand)

महत्त्वपूर्ण उपदेश महापुरुषों के

11-जो मनुष्य अपने मुँह में लगाम देता है और जीभ को वश में रखता है, वह अपने प्राणों को विपत्तियों से बचाता है। -नीतिवचन (proverbs)
12-जो व्यक्ति अशिक्षित है, वह गरीब है। -जवाहरलाल नेहरू (Jawaharlal Nehru)
13-जिस हालत में हो ईश्वर को धन्यवाद करो। संसार में इससे भी अधिक कष्ट हैं। -टॉलस्टाय (tolstoy)
14-कोई बाहरी ताकत इन्सान को नीचे नहीं गिरा सकती, अपने को नीचे गिरानेवाला इंसान खुद ही है। -महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi)
15 जो खाने पहनने को देता है, वह यदि दो एक कड़वी बात कह भी दे तो उसे भी खाने पहनने में समझना चाहिए। -रवीन्द्रनाथ ठाकुर (Rabindranath Thakur)
16-कत्ते भौंकते हैं उन्हें भौंकने दो, हाथी यह सीख देता है। -हितोपदेश (preaching)
17-जो अपने लिए नियम नहीं बनाता, उसको दूसरों के नियमों पर चलना पड़ता है। -ओशो (Osho)
18 चालाकी पर किस प्रकार काबू पाया जाए। इसकी जानकारी कर लेना ही एक बहुत बड़ी चालाकी है। (ROCHI)
19-कन्यादान न करने वाले का जन्म व्यर्थ चला जाता है। -प्रेमचन्द्र (premchandra)
20 जो आदमी यह समझता है कि हर बात तुरंत उसकी समझ में आ जाती है, वह कुछ भी नहीं सीख पाता। -ब्लाउंट (Blount)

महत्त्वपूर्ण संदेश महापुरुषों का उपदेश पर

21-जब में और तृ मेरे बीच न रह जाएंगे, उस समय मन्दिर मस्जिद और गिरजा सब तेरे लिए समान हो जाएंगे। धमाधिकारी (Dhamadhikari)
22-जो पुत्र अपने माता-पिता को अपशब्द कहता है, उसकी धन सम्पत्ति पूर्णत: नष्ट हो जाती है। नीतिवचन (proverbs)
23-किसी को भी अपना खुद का व्यक्तित्व छोड़कर किसी दूसरे का व्यक्तित्व नहीं अपनाना चाहिए। -विनोबा भावे (Vinoba Bhave)
24-कभी उस व्यक्ति से मित्रता मत करो, जिसने तीन मित्र बनाकर त्याग दिये हों। लेवेटर (levator)
25-जो हानि हो चुकी है, उसके लिये शोक करना अधिक हानि को निमंत्रण देना है। शेक्सपीयर (Shakespeare)
26-क्या तुम्हारे पचास मित्र है? ये भी काफी नहीं। क्या तुम्हारा एक शत्रु है, यह वहत काफी है। (Agyat)
27-खाक में मिलने से पहले स्वार्थ पर खाक डाल। स्वामी दयानन्द (Swami Dayanand)
28-कायर ने अगर धमकी दी है तो समझ लो कि उस वक्त वह सुरक्षित है। (Gete)
29-कामकाज की कल्पनाओं से केवल लाभ होता है, परन्तु उतावली करने वाले को केवल हानि होती है। बाइबिल (Bible)
30-गम्भीर परिस्थिति ही महापरुषों का विद्यालय है। लोक (Lock)

उपदेश पर महापुरुषों का संदेश

31-कष्ट और छती सहने के बाद मनुष्य अधिक विनम्र और ज्ञानी हो जाता है। (Facklen)
32-चित्र प्रसन्न रखने से दुःख दूर होते हैं और बुद्धि स्थिर होती। वेदव्याम (Vedavyam)
33-जिसने अपनापन खोया, उसने सब खोया। -विवेकानन्द (Vivekananda)
34-जो लुट जाने पर भी मुस्कराता है, वह चोर का सब कुछ चुरा लेता है। शेक्सपीयर (Shakespeare)
35-जिसे पुस्तक पढ़ने का शौक है, वह सब जगह सुखी रह सकता है। महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi)

पोस्ट निष्कर्ष

ऊपर अपने महापुरुषों के द्वारा दिए गए उपदेश पर कुछ महत्त्वपूर्ण संदेश पड़े, जिससे हमारे जीवन में यदि हम इसे उतारे तो हम एक नए स्तर पर अग्रसर हो सकते हैं। आशा है आप को ऊपर दिया गया कंटेंट जरूर अच्छा लगा होगा। अपने दोस्तों को शेयर करें धन्यवाद।

Read The Post:-

Jeevan Mai Karm कैसे करे?

आदतों को विकसित के लिए के 5 ट्रिप्स

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top